SPG Security: एसपीजी सुरक्षा में कितने जवान होते हैं?

SPG Security: हेलो नमस्कार दोस्तों , जैसा कि हम सभी जानते हैं, भारत में अलग-अलग कामों के लिए अलग-अलग फोर्सेस का गठन किया गया है और इनमें से एक फोर्स है एसपीजी फोर्स, जिसका मुख्य कार्य बड़े राजनीतिक नेताओं और प्रधानमंत्रियों की सुरक्षा करना होता है। लेकिन कई लोगों को इस एसपीजी फोर्स के बारे में जानकारी नहीं होती, जैसे कि एसपीजी (SPG Security) क्या हैं और इसमें शामिल होने का तरीका क्या है।

अगर आपको भी SPG Security, SPG security in indiaspg security kya hai और spg security how many members इत्यादि के बारे मे कोई भी जानकारी नहीं है, इसमें कैसे शामिल हों के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप इस लेख को ध्यान से पढ़ सकते हैं। हम विस्तार से एसपीजी फोर्स के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

SPG Security

एसपीजी (SPG Security) क्या हैं (full form, Salary) | प्रधानमंत्री की सुरक्षा कैसे की जाती हैं?

दुनिया भर में हर देश के प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए एक विशेष एजेंसी को काम पर लगाया जाता है। हमारे देश के प्रधानमंत्री, श्रीमान नरेंद्र मोदी जी की सुरक्षा एसपीजी (SPG) के द्वारा संभाली जाती है। एसपीजी में केवल योग्य और काबिल लोगों को भर्ती किया जाता है जो विभिन्न परीक्षाओं को पास करते हैं।

इसका कारण यह है कि एसपीजी भारतीय प्रधानमंत्री की सुरक्षा से जुड़ी हुई होती है और इसलिए उसके लिए चयनित होने से पहले अभ्यर्थियों को सभी परीक्षाओं में सफल होना होता है। तो यह था एसपीजी का अर्थ और महत्व।

एसपीजी सुरक्षा (SPG Security)

SPG full formस्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप  
सिद्धांतबहादुरी, समर्पण, सिक्योरिटी  
निर्मित8 अप्रैल, 1985  
कुल कर्मचारी:  3000
सालाना Salery429.05 करोड़  
देशभारत
हेड क्वार्टरनई दिल्ली  
डायरेक्टरअरुण कुमार सिन्हा  
वेबसाइट  Spg.nic.in
कामस्पेशल लोगों को सिक्योरिटी देना  

एसपीजी सुरक्षा क्या है?: SPG Security kya hai

वैसे तो भारत के प्रधानमंत्री के सुरक्षा का ध्यान एसपीजी सेना पर होता है, जिसका मतलब यह नहीं है कि वे केवल प्रधानमंत्री की सुरक्षा करती हैं। इसके अतिरिक्त, भारत में कई ऐसे लोग हैं जो एसपीजी सुरक्षा के लाभ उठाते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री के साथ-साथ उनके परिवार के भी सुरक्षा का ध्यान एसपीजी रखती है। हालांकि, पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार के इस्तेमाल करने या न करने का फैसला उन पर छोड़ दिया जाता है। कुछ वीआईपी नेताओं को भी जरूरत पड़ने पर सुरक्षा प्रदान की जाती है और जब उनकी जरूरत खत्म होती है, तो उनसे एसपीजी सुरक्षा हटा दी जाती है।

SPG security in India

एसपीजी का “सामान्य अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण” भारत सरकार द्वारा किया जाता है। बल का प्रमुख, निदेशक, औपचारिक रूप से कैबिनेट सचिवालय में संयुक्त सचिव (सुरक्षा) के रूप में कार्य करता है और बल की “कमांड और पर्यवेक्षण” के लिए जिम्मेदार है।

SPG Security Cost Per Month

केंद्रीय बजट 2020 में पीएम मोदी की सुरक्षा करने वाले विशिष्ट बल एसपीजी के लिए 592.5 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।

Special Protection Group
Annual budget₹385.95 crore (US$48 million) (2022–23)
Jurisdictional structure
Federal agency (Operations jurisdiction)India
International agencyIndia

spg security kiske paas hai

प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी एसपीजी यानी स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) के पास होती है। एसपीजी के जवान पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार की सुरक्षा की भी जिम्मेदारी निभाते हैं। एसपीजी के जवान आधुनिक हथियारों जैसे एफएनएफ-2000 असॉल्ट राइफल, स्वचालित बंदूकें और कुछ खतरनाक पिस्तौल जैसे 17-एम से लैस होते हैं।

एसपीजी सिक्योरिटी क्यों दी जाती है?| SPG Security Kisko Milti Hai

हमारे देश के प्रधानमंत्री देश के लिए वास्तविक महत्वपूर्णता रखते हैं। वे हमेशा देश के हित में सोचते हैं और उसके लिए काम करते हैं। कई बार देश के दुश्मनों द्वारा प्रधानमंत्री की हत्या की योजना बनाई जाती है, लेकिन उन्हें इस तरह के लोगों से बचाने के लिए उन्हें एसपीजी सिक्योरिटी की सुरक्षा प्रदान की जाती है। इससे प्रधानमंत्री को किसी भी संभावित हमले को रोका जा सकता है और उनकी सुरक्षा की गारंटी दी जा सकती है।

एसपीजी सिक्योरिटी में शामिल होने वाले जवानों को पहले से ही यह बताया जाता है कि उनका प्रथम कर्तव्य प्रधानमंत्री की सुरक्षा करना है। चाहे वह अपनी जान की परवाह करते हुए उनकी सुरक्षा करें या फिर दुश्मन को क्षति पहुंचाने के लिए कोशिश करें।

वर्तमान में एसपीजी सिक्योरिटी किसे दी जाती है?

भारत में एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) सुरक्षा प्रधानमंत्री को दी जाती है। जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहीं जाते हैं, तो उनके साथ 24 घंटे एसपीजी के जवान रहते हैं। यदि एसपीजी के जवान को लगता है कि प्रधानमंत्री की जान को खतरा है, तो वे अपनी जान की परवाह किए बिना प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने के लिए काम करते हैं।

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप को कब बनाया गया था?

1988 के 2 जून को देश की राजधानी नई दिल्ली में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप का गठन हुआ था। इसे बनाने के लिए संसद ने एक अधिनियम का उपयोग किया। इस संगठन का मुख्यालय दिल्ली में स्थित है क्योंकि इसे यहां बनाने का निर्णय लिया गया था। इस प्रकार की सरकारी सुरक्षा प्रदान करने का मुख्य कार्य इस संगठन का है, जो लोगों को 24 घंटे सुरक्षा सुनिश्चित करता है जिन्हें सरकारी सुरक्षा दी गई है। इस प्रकार के विशेष सुरक्षा बलों की कई अन्य सुरक्षा दलों की तरह मान्यता है।

अंतिम शब्द

आज के हिंदी वाले ब्लॉग के इस आर्टिकल में हमने भारत की स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप फोर्स एसपीजी सुरक्षा क्या है और एसपीजी सुरक्षा में कितने जवान होते हैं।

यहाँ देखिये सभी जानकारी

Leave a Comment